Sunday, February 19, 2017

वादा


जो मिलने का वादा करके 
न मिलने का बहाना बनाए 
समझ लेना दोस्त
वो वादों के मायने नहीं समझते 
और जो वादों को ना समझे 
उन्हें अपनी यादों में पनाह ना देना |

Gracias!
 

No comments:

Post a Comment

Don't leave before leaving your words here. I will count on your imprints in my blogspace. :)